Saturday, August 6, 2022
- Advertisement -

खेत मजदूरों से भरी ट्रैक्टर ट्रॉली पलटी ,1की मोत , एक गंभीर , 12 जख्मी

- Advertisement -
- Advertisement -
गोंदिया जिले के अर्जुनी मोरगांव तहसील के नवेगांवबांध थाना अंतर्गत आने वाले इलाके में 16 जुलाई शुक्रवार सुबह 10 बजे एक बड़ा ही दर्दनाक हादसा हुआ है ।
यहां खेतों के तंग रास्तों और कच्ची डांबरी सड़कों से जाने वाले मार्ग पर तेज रफ्तार बेकाबू ट्रैक्टर-ट्रॉली बीच रास्ते पलट गई।
जानकारी के अनुसार कृषि मजदूरों से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली में एक दर्जन से अधिक खेतमजदूर सवार थे जो पौधारोपण हेतु कृषि कार्य को जा रहे थे।
 जैसे ही ट्रैक्टर ट्रॉली पलटी उसमें सवार मजदूर नीचे जा गिरे तथा ट्रॉली के नीचे दो महिला मजदूरों के दबने से अफरा तफरी मच गई।
इस दौरान सत्यभामा मणिराम कुंभरे (56 ,  प्रधानटोला
नवेगांवबांध )  नामक महिला मजदूर की मौके पर ही मौत हो गई जबकि गायत्री अशोक कुंभरे (28 निवासी प्रधान टोला) नामक कृषि मजदूर की स्थिति गंभीर बनी हुई है।
 घटित सड़क हादसे में ट्रॉली में सवार 12 मजदूर जख्मी हो गए घायलों को जल्दी नजदीकी अस्पताल पहुंचाने में ग्रामीणों ने मदद की।
यह घटना शुक्रवार सुबह 9:30 से 9:45 बजे के आसपास
नवेगांव बांध थाने से 10 किलोमीटर दूर  ग्राम कवठा से कालीमाटी रोड की बताई जा रही है।
प्रत्याशियों का कहना है-इस दौरान ट्रैक्टर क्रमांक MH-35/AG-8826  का चालक सड़क पर सामने चल रहे ट्रैक्टर क्रमांक MH-35/ B-8105 को ओवरटेक कर आगे निकलने का प्रयास कर रहा था तथा दोनो ट्रैक्टर तेज गति से निकले और दोनों में गंतव्य स्थान पर पहले पहुंचने की होड़ थी ।
अलगर्जी और लापरवाही पूर्वक वाहन चलाने हुए एक ट्रैक्टर चालक के ओवरटेक करने से संतुलन बिगड़ा और ट्रैक्टर ट्रॉली बीच रास्ते पलट गई।
उधर हादसे की सूचना पाकर नवेगांव बांध पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू की।
इस प्रकरण के संदर्भ में फरियादी अशोक मणिराम कुंभरे (36, प्रधान टोला ) की शिकायत पर पुलिस ने दोनों ट्रैक्टर चालक महेश  (32, नवेगांवबांध ) तथा मंगेश ( 27 , ग्राम कोंदामेंढी ) इन आरोपीयों के खिलाफ धारा 279, 336 , 337, 338, 304 (अ) गैर इरादतन हत्या , सहकलम 134 (अ ) ( ब )  187, 184 ,158 ,
177, 66/192, 147, 196,
3/181 मोटर वाहन कायदा का जुर्म दर्ज किया है। प्रकरण की जांच नवेगांवबांध थाना प्रभारी
हेगड़कर के मार्गदर्शन में जारी है।
गौरतलब है कि सामान ढुलाई के वाहनों में की जा रही इंसानों की ओवरलोडिंग और तेज रफ्तार ही कई हादसों का कारण बन रही है लिहाज़ा जरूरत है योग्य कदम उठाने की , जिससे ऐसे हादसों पर कंट्रोल किया जा सके।
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -