Friday, December 2, 2022
- Advertisement -

दुनिया को फिर बड़े संकट में धकेलना चाहता है चीन, इस कदम से जाहिर किए मंसूबे

चीन अपनी हरकतों से दुनिया को एक बड़े संकट में धकेल सकता है. वो बार-बार ताइवान की सीमा में घुसपैठ कर रहा है. अब उसकी एक पनडुब्बी को ताइवान स्ट्रेट में देखा गया है. रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि जलमार्ग में सैन्य जहाजों की बढ़ती उपस्थिति भीषण संघर्ष को जन्म दे सकती है.

- Advertisement -
- Advertisement -

चीन (China) अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. वो लगातार ताइवान की सीमा में घुसपैठ कर रहा है. इसी हफ्ते उसकी एक पनडुब्बी (Chinese submarine) को ताइवान स्ट्रेट (Taiwan Strait) में देखा गया है. डिफेंस एक्सपर्ट्स इसे एक बड़े खतरे के रूप में देख रहे हैं. उनका कहना है कि इस संकीर्ण जलमार्ग में सैन्य जहाजों की लगातार उपस्थिति भीषण संघर्ष का कारण बन सकती है.

भीषण संघर्ष की आशंका 

- Advertisement -

CNN की रिपोर्ट के अनुसार, पनडुब्बी विशेषज्ञ एच.आई. सटन (H.I, Sutton) ने ओपन सोर्स यूरोपीय सैटेलाइट इमेजरी सर्विस, सेंटिनल -2 से ली गई एक तस्वीर में चाइनीज टाइप -94 परमाणु-संचालित बैलिस्टिक मिसाइल सबमरीन की पहचान की है, जो ताइवान स्ट्रेट (Taiwan Strait) से गुजर रही थी. एक्सपर्ट्स का कहना है कि चीन और ताइवान को विभाजित करने वाले इस जलमार्ग में सैन्य जहाजों की बढ़ती उपस्थिति भीषण संघर्ष की वजह बन सकती है.

‘बेहद चौंकाने वाली घटना’ 

रक्षा विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि ताइवान और चीन के बीच संघर्ष अचानक ही शुरू होने की संभावना है. हालांकि, अभी ये स्पष्ट नहीं हो सका है कि ताइवान स्ट्रेट में चीनी सबमरीन की मौजूदगी की वजह क्या है. लेकिन सटन का कहना है कि संभव है कि SSBN या बूमर कही जाने वाली ये चीनी पनडुब्बी अपने सामान्य मिशन पर हो और रिपेयर या मेंटेनेंस के लिए PLA के नेवी पोर्ट पर जा रही हो. वहीं, एक अन्य एक्सपर्ट्स का कहना है कि चीनी बूमर की उपस्थिति बेहद चौंकाने वाली है.

China बार-बार कर रहा घुसपैठ

- Advertisement -

बता दें कि चीन लगातार ताइवान की सीमा में घुसपैठ कर रहा है. उसके फाइटर जेट समय-समय पर ताइवान की सीमा में उड़ान भरते रहते हैं. जलमार्ग से भी वो ताइवान पर दबाव बना रहा है. चीन की आक्रमक कार्यशैली के चलते ही ताइवान स्ट्रेट में जंगी जहाजों की आवाजाही बढ़ गई है, जो किसी भी समय बड़ी लड़ाई की वजह बन सकती है. अमेरिका भी इस मुद्दे पर चीन को चेतावनी दे चुका है, लेकिन वो कुछ भी सुनने को तैयार नहीं है. लिहाजा यूएस ने भी क्षेत्र में अपनी सैन्य उपस्थिति दर्ज कराई है.

Navy को लगातार बना रहा मजबूत

- Advertisement -

इस हफ्ते, अमेरिकी नौसेना के 7वें बेड़े के कमांडर वाइस एडमिरल कार्ल थॉमस ने कहा था कि चीन से मुकाबले के लिए पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र में यूएस और उसके साझेदारों के और अधिक विमानवाहक पोतों की तैनाती की आवश्यकता है. इस बीच, चीन ने भी अपनी समुद्री ताकत में इजाफा करना शुरू कर दिया है. चीन ने नवंबर में अपने चौथे टाइप 55 विध्वंसक को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी (PLAN) के बेड़े में शामिल किया है और पांचवें को भी अगले कुछ दिनों में शामिल किया जा सकता है. टाइप 55 को दुनिया के सबसे आधुनिक और शक्तिशाली सरफेस कॉम्बैट शिप्स में से एक माना जाता है.

 

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -